Sunday, May 27, 2007

स्पाइडरमैन - ३ देख ली

वैसे देखे हुए तो करीब अब एक हफ्ता हो ही गया। बढ़िया फिल्म है। अब स्पाइडरमैन की फिल्म में एक्शन, स्टंट, और बेहतरीन प्रभाव तो होते ही हैं, लेकिन इसके अलावा भी कहानी में एक खास बात होती है जो आपको बाँध कर रखती है। स्पाइडरमैन श्रंखला कि मैंने तीनों फिल्में देखीं है और कई कई बार देखी हैं।

जहाँ तक कहानी का सवाल है स्पाइडरमैन-३ कि कहानी ये बताती है की सबसे बड़ा संघर्ष इन्सान के खुद के दिल में होता है। बदले कि भावना, असीम ताक़त, और गुरूर इन्सान को भ्रष्ट बना सकता है, चाहे वो स्पाइडरमैन ही क्यों ना हो। और मदद की ज़रूरत भी सबको होती है, फिर चाहे हो स्पाइडरमैन ही क्यों ना हो। दूसरों के नज़रिये को समझना चाहिऐ और इसे समझने के लिए समय भी देना चाहिऐ।



मूवी के अपने कुछ खास पल हैं। पीटर पार्कर और मैरी जेन का मकड़ी के जाल पर बैठ कर बातें और प्यार करने का दृश्य बड़ा ही खूबसूरत बना है। एक बहुत ही महत्वपूर्ण दृश्य तब है जब पीटर पार्कर अपनी आंटी से कहता है की वो मैरी से शादी करने के लिए कहेगा। इस समय बाक़ी बातों के अलावा पीटर कि आंटी उसे बताती है की शादी से पहले इस बात का वादा करो कि खुद से आगे हमेशा अपनी पत्नी को रखोगे। और ये भी की लड़कियों से शादी के लिए पूछना उनके लिए एक बहुत खास पल होता है, और इसको जितना खूबसूरत बना सको, बनाना। अब मैं पीटर कि आंटी के सारे उदगार बता दूंगा तो आपका मूवी का मज़ा खराब हो जाएगा।

स्पाइडरमैन-३ ज़रूर देखिए क्यूंकि इसमें स्पाइडरमैन है, खूबसूरत मैरी जेन है, बेहतरीन स्टंट, और एक्शन है, लेकिन इससे भी बड़ी बात है आपको बाँध के रखने वाली कहानी।

राग

3 टिप्पणियाँ:

बजार वाला said...

बड़ा मन है देखने का , लेकिन टाइम ही नही मिल पा रहा है . स्पाई डर मेन की सारी मूवीज़ देखता हूँ

Raviratlami said...

मेरे अनुभव थोड़े जुदा रहे. फ़िल्म की भावनात्मक बातों को, जिनका आपने जिक्र किया है, छोड़ दें तो पूरी फ़िल्म एक मेकेनिकल, एडवांस्ड वीडियो गेम की माफ़िक लगी. सारे स्टंट किसी एडवांस्ड कम्प्यूटर गेम से सीधे उठा लिए गए टाइप लगे और स्टंटों में बिलकुल मजा नहीं आया. यह इस श्रेणी की सबसे बेकार फ़िल्म लगी मुझे - खासकर स्टंटों के हिसाब से.

Udan Tashtari said...

हमने अभी मूवी नहीं देखी मगर उसमें जो गल्तियां रह गई हैं उसकी साईट देखी. अब मूवी देखेंगे फिर बतायेंगे.